Scattered Thoughts on Haiku

Posted: June 18, 2013 in Dalvir Gill, Haiku, Write-Ups

Scattered Thoughts on Haiku

by

Dalvir Gill

one can ask, if not just the “5-7-5” or all the “5-7-5’s”, still! there gotta be some 5-7-5 of Haiku

it’s easy not to understand that there could be a totally other way of living, where calligraphy

is not calligraphy, a samurai is not learning swordsmanship, a general laborer is not just labeling boxes. and zen sages weren’t creating any literature. everything is different. it’s a different life-style! a different way of living!!

a zen may not have any concept of Time, per se. conceptualization may be the only considered ‘sin’, to use a concept from the dictionary we know anything of.

i won’t hear a single reference towards nature or time in a single sentence they will utter. but even you will feel the presence of nature and time in them.

time, if asked, “one Moment” is ETERNAL, it can not be cut into any divisions.

i and nature aren’t any two different entities. i don’t care much about any other form of Zen “Poetry”, they sound like Buddhist Sutras to me or like Rumi, or Tilopa or Sant-Baani” or whatever ….. Haiku is what i love and haiku is what i ( want to ) write.

so i start, without checking the manuals of haiku-writing. if i am living a life according to Tao, and Zen is my natural state, it would be a Haiku, no matter what!

to be in that state, to be living that life, there is no written Dogma, or any Dogma of any form, then, how can we figure the Dogma for Haiku, its 5-7-5; Existentially it is Experienced – Isingness.

in the other world all that is called “knowledge” has been achieved by any individual by words, oral or written!

and a world where a person tries to process as much information as possible., there Bodhidharma’s message starts with

“A special transmission beyond Manuscripts,

No dependence on written words or letters.

Looking straight into man’s soul, and

Attainment of boddha-hood.” NOW AND HERE!!!

“It’s harder to unlearn than learn.”

…. Warrior is told before setting on a fight/war,”In all these years of schooling you have learned lots of moves, but the only move you will keep in your memory is going to cause your end.”

old sayings have a lot in them. we shall listen, what the other person is saying. ( a haiku can provoke/evoke only admiration, no discussion, this Device was devised for the very meaning to hush that “Inner Dialogue” and render it silent. )

my most favourite is “Kill Buddha!! If you meet him on the road.”

hugs!! Everybody!!!!

muchlove. Stay Blessed!

Advertisements
Comments
  1. dalvirgill says:

    Dalvir Gill created a doc in the group ‎ਪੰਜਾਬੀ ਹਾਇਕੂ حائیکو پنجابی Punjabi Haiku‎.
    September 19, 2012 ·
    Scattered Thoughts on Haiku 1.: Form I

    Scattered Thoughts on Haiku :

    one can ask, if not just the “5-7-5” or all the “5-7-5’s”, still! there gotta be some 5-7-5 of Haiku

    it’s easy not to understand that there could be a totally other way of living, where calligraphy is not calligraphy, a samurai is not learning swordsmanship, a general laborer is not just labeling boxes. and zen sages weren’t creating any literature. everything is different. it’s a different life-style! a different way of living!!

    a zen may not have any concept of Time, per se. conceptualization may be the only considered ‘sin’, to use a concept from the dictionary we know anything of.

    i won’t hear a single reference towards nature or time in a single sentence they will utter. but even you will feel the presence of nature and time in them.

    time, if asked, “one Moment” is ETERNAL, it can not be cut into any divisions.

    i and nature aren’t any two different entities.

    i don’t care much about any other form of Zen “Poetry”, they sound like Buddhist Sutras to me or like Rumi, or Tilopa or Sant-Baani” or whatever ….. Haiku is what i love and haiku is what i

    ( want to ) write.

    so i start, without checking the manual to haiku-writing. if i am living a life according to Tao, and Zen is my natural state, it would be a Haiku, no matter what!

    to be in that state, to be living that life, there is no written Dogma, or any Dogma of any form, then, how can we figure the Dogma for Haiku, its 5-7-5; Existentially it is Experienced. Isingness.

    in the other world all that is called “knowledge” has been achieved by any individual by words, oral or written!

    and where a person tries to process as much information as possible., there Bodhidharma’s message starts with

    “A special transmission beyond Manuscripts,

    No dependence on written words or letters.

    Looking straight into man’s soul, and

    Attainment of boddha-hood.”

    NOW AND HERE!!!

    “It’s harder to unlearn than learn.”

    …. Warrior is told before setting on a fight/war,”In all these years of schooling you have learnt lots o’ moves, but the only move you will keep in your memory is going to cause your end.”

    old sayings have a lot in them. we shall listen, what the other person is saying. ( a haiku can provoke/evoke only admiration, no discussion, this Device was devised for the very meaning to hush that “Inner Dialogue” and render it silent. )

    my most favourite is “Kill Buddha!! If you meet him on the road.”

    hugs!! Everybody!!!!

    muchlove. Stay Blessed!
    LikeLike · · 1
    Dalvir Gill‎ਪੰਜਾਬੀ ਹਾਇਕੂ حائیکو پنجابی Punjabi Haiku
    September 19, 2012 · Brampton ·

    Scattered Thoughts on Haiku :

    one can ask, if not just the “5-7-5” or all the “5-7-5’s”, still! there gotta be some 5-7-5 of Haiku
    it’s easy not to understand that there could be a totally other way of living, where calligra
    phy is not calligraphy, a samurai is not learning swordsmanship, a general laborer is not just labeling boxes. and zen sages weren’t creating any literature. everything is different. it’s a different life-style! a different way of living!!
    … See More
    LikeLike · · 716

    Jagdeep Rattan, Tejinder Singh Gill and 3 others like this.
    Rosie Mann “a haiku can provoke/evoke only admiration, no discussion, this Device was devised for the very meaning to hush that “Inner Dialogue” and render it silent. ” — I agree 100% !!!

    “Kill Buddha ‘ if you meet him on the way .”
    —– This Is It !!:)))

    1.Having agreed with that and all the above without reservation , are you suggesting that ‘anything and everything’ may be expressed in this space and all should just listen ?
    2.The implicit message also sounds like , everybody should be free to share ( here ) whatever comes to them .
    3.What you speak of is beyond all the layers , which need peeling , ( and don’t tell me , we already are in ‘that’ state !) Even if it is ‘illusion’ that there are layers to be peeled before the Self is revealed to the self , then there is an ‘illusion’ we all ( without exception ) need to go through to come unshackled !!
    4. By becoming aware via the sense ( crutch ) of moment to moment ( linear ‘time’ for convinience ) , then recording it as ‘haiku’ or whatever , are mere tools to be the Eternal Moment ! It is but natural for All to ‘slip’ into that state , one way or another . The Soul recognizes Truth , there’s nothing to worry really !!
    5. :))))))))))
    September 19, 2012 at 3:31am · Unlike · 1
    Dalvir Gill 1.This is essentially related to Haiku, i’ve seen posts way-off.where else can i express/share? only you listened so far.
    2. everything should share, they must; when it’s haiku related, i’m challenging the very 5-7-5 of Haiku, anything related to the ‘form of the ,’. so i still consider it a related post.
    3.i can’t be held guilty is after peeling and peeling all there’s left is ‘more layers’ or ‘nothing’. one life to live, Rosie ! we can’t go playing “Hit & trial”, endlessly. everyone have to find the “inner station”, and haiku can help anyone. Now, this is philosophical and i keep it out while going to haiku
    4.crutches are mere crutches but they have become shackles, when we recognize them as shackles, they leave, they drop automatically. even the nomenclature and description isn’t right. the ‘parts’ of sense are not the bases for perception but soul and haiku tries to name the parts of that perception, or just name that perception beyond and without these senses, which record with a biased/opinionated rather gross approach.
    5.Thank You, so much. i really appreciate this open-ness of your mind, this kinda discussion needs it. I wanted to share my essay, paragraph by paragraph, you scared me to.
    September 19, 2012 at 4:21am · Like · 1
    Rosie Mann I agree with you 100% !
    Keep clapping with one hand Dalvir , everyone has some game that they/we project to play ! After all , it’s one Eternal Life !!
    Hahahaha !!:))))
    Let’s leave it here , for now , okay ?
    September 19, 2012 at 4:29am · Unlike · 1
    Dalvir Gill no, i’ve to share what Charan Ji posted in Tea-Room, worth-while read:
    हाइकु क्या है – प्रोफेसर सत्यभूषण वर्मा
    [ 5 मार्च 2004 को होशंगाबाद (म0प्र0), में आयोजित ‘हाइकु समारोह’ में मुख्य अतिथि के रूप में प्रो० सत्यभूषण वर्मा द्वारा दिये गये भाषण का एक अंश ]

    बात हाइकु की चल रही है। कमलेश जी ने अभी कहा कि हाइकु की गोष्ठी में गज़ल कहां से आयेगी। बहुत पहले मैंने अपनी किताब में हाइकु की चर्चा करते हुए लिखा था कि गज़ल का हर शेर एक हाइकु ही तो है। और कमलेश जी की गज़लों का हर शेर सचमुच आत्मा से हाइकु था। भले ही रूप में थोड़ा हाइकु के 5–7–5 के बंधन में नहीं था। रही बंधन की बात। मैं शर्मा जी की बात लेता हूँ। उन्होंने कहा कि वे साहित्य को नहीं समझते और उसके बाद उन्होंने हाइकु के बंधन को लेकर कविता पर जो टिप्पणी की‚ मुझे लगा कि उन्होंने हिन्दी में लिखने वाले सभी हाइकुकारों को हाइकु का एक सूत्र–वाक्य दे दिया है कि हाइकु कैसे लिखा जाना चाहिए। इससे अधिक साहित्य की समझ किसे कहते हैं। मैं शर्मा जी की बात से ही हाइकु पर अपनी बात कहूँगा। उन्होंने कहा‚ हाइकु 5–7–5 के बंधन में बंधी हुई एक कविता है और फिर उन्होंने प्रश्न उठाया कि क्या कविता बंधन के अन्दर बंध कर लिखी जा सकती है? बहुत बड़ी बात कह दी है उन्होंने। मुझे चीन की एक कथा याद आ गयी चीन में लड़कियों के छोटे पैर सुन्दरता की माप माने जाते हैं। सुन्दरता के मापदण्ड हर देश पैदा होते ही उसके पाँव में लोहे के जूते डाल देते थे कि पाँव बड़े न हों। उन लोहे के जूतों में बंधे हुए उस पाँव का क्या हाल होता होगा‚ बच्ची को कितनी यातना मिलती होगी‚ इसकी कल्पना कोई भी संवेदनशील व्यक्ति कर सकता है। हिन्दी में अधिकांश हाइकु जो लिखे जा रहे हैं‚ इसी प्रकार लिखे जा रहे हैं।
    शर्मा जी ने एक और बात कही कि कविता तो स्वतः प्रस्फुटित होती है। तुलसीदास जब रामचरित मानस लिख रहे थे तो मात्राओं की संख्या गिन–गिन कर चौपाई नहीं लिखते थे। और जब वह लिखते थे तो चौपाई में 16–16 मात्राएँ स्वयं आ जाती थीं। क्यों? उनके पास कहने के लिए मन की गहराइयों के अंदर सागर भरा हुआ था और वह सागर उमड़ता था‚ उनकी वाणी से निसृत होता था‚ प्रस्फुटित होता था और वह स्वयं अपने उस प्रस्फुटित होने के‚ निसृत होने के प्रवाह में एक रूप ले लेता था। और उस रूप को छंदशास्त्रियों‚ व्याकरणाचार्यो ने 16 मात्राओं की गणना से व्याख्यायित कर उसे चौपाई नाम दिया।
    September 19, 2012 at 4:44am · Like
    Dalvir Gill part 2 : हाइकु 5–7–5 की गणना कर सायास रची गयी रचना नहीं है। हाइकु किसी वस्तु के प्रति‚ किसी विषय के प्रति‚ किसी भाव की अनुभूति के प्रति हमारे मन में जो तात्कालिक प्रतिक्रिया होती है‚ उसकी सहज अभिव्यक्ति की कविता है। और प्रतिक्रिया बहुत क्षणिक होती है‚ लम्बी नहीं होती। उस प्रतिक्रिया को लम्बा करता है हमारा सोच‚ हमारा चिंतन‚ हमारी कल्पना। कविता के विद्यार्थी जानते हैं‚ कविता के भाव पक्ष के तीन तत्व माने जाते हैं– भाव‚ कल्पना और चिन्तन। भाव तो एक क्षण में उभरता है मन में। भाव का क्षण बहुत छोटा होता है। उसके बाद उसमें कल्पना जुड़ती है‚ उसमें चिंतन समाता है मनुष्य का‚ व्यक्ति का और वह एक कविता को जन्म देता है। लेकिन अगर हम उस भाव के उस अनुभूत क्षण को पकड़ लें। उसकी मन में जो प्रतिक्रिया हुई है‚ उस प्रतिक्रिया को ज्यों का त्यों अगर व्यक्त करने का प्रयत्न करें तो वह दो–चार शब्दों में ही समा जायेगा। उसके लिये बहुत लम्बी कविता की आवश्यकता नहीं होती।वह जो भाव की प्रतिक्रिया है मन के अन्दर‚ उसको शब्दों में अभिव्यक्त करने की जो हमारे अन्दर एक तड़प उठती है‚ वह तड़प जब एक रूप लेती है तो बहुत थोड़े शब्दों में हम वह सब कह जाते हैं जो हमारे मन के अन्दर प्रस्फुटित होता है। हाइकु वह है। और क्योंकि अनुभूति की गहराई का वह क्षण बहुत छोटा होता है इसलिए हमारी अभिव्यक्ति का आकार जो है वह 5–7–5 से आगे नहीं बढ़ पाता है। तो 5–7–5 हाइकु का कलेवर है। हाइकु के वस्त्र हैं। वस्त्र हमारे सम्पूर्ण व्यक्तित्व के‚ शरीर के माप के अनुसार बनाये जाते हैं‚ शरीर को काट–छाँट कर वस्त्रों के अनुसार नहीं ढाला जाता है। हाइकु 5–7–5 में बंधी हुई रचना नहीं है। हाइकु वह है जो 5–7–5 के अन्दर कह दिया गया है।
    September 19, 2012 at 4:46am · Like
    Dalvir Gill Part 3. : हाइकु का सबसे बड़ा कवि है – ‘बाशो’। आज हाइकु विश्व–कविता बन चुकी है। इसका मूल उद्गम जापान से है। आज विश्व की सभी महत्वपूर्ण भाषाओं में हाइकु लिखे जा रहे हैं। विश्व में जहाँ कहीं भी हाइकु की चर्चा हुई है और जहाँ हाइकु की चर्चा होती है‚ ‘बाशो’ का नाम सबसे पहले आता है। हाइकु जैसी अधिकांश रचनाएँ आज हिन्दी में हाइकु के नाम से रची जा रही हैं। एक उदाहरण है बाशो से पहले की रचना का 5–7–5 में कविता जापानी में है। हिन्दी में उसका अर्थ होगा–
    “चाँद को हत्था लगा दिया जाये तो पंखा बन जायेगा।”
    जापानी पंखे आप देखें तो एक डण्डी होती है और एक गोला–सा होता है और वह जापानी पंखा होता है। कहीं शायद आपने चित्रों में या और कहीं देखे होगें ऐसे पंखे। तो कवि चाँद को देखता है और कल्पना करता है। हत्थे की कमी है। चाँद को हत्था लगा दिया जाये तो बन जायेगा पंखा। कविता कहाँ है इसमें। हाँ‚ 5–7–5 में बाँध कर कह दिया गया है इसे।
    बाशो पहला व्यक्ति था जिसने हाइकु को वह रूप दिया कि उसे काव्य रूप में जापानी साहित्य में मान्यता प्राप्त हुई।और हाइकु जापानी साहित्य की एक सबल काव्य–धारा बन गया। आज 21 वीं शताब्दी में काव्य का‚ साहित्य का प्रवाह महासागर का रूप ले चुका है। आज पूरे विश्व की कविता का प्रभाव‚ पूरे विश्व के साहित्य का प्रभाव संसार के हर देश की कविता और साहित्य पर पड़ता है. जापान में भी आज आधुनिक कविताएँ लिखी जा रहीं है। जापानी कविता पर आज पश्चिम का प्रभाव है‚ चीन का प्रभाव है‚ भारत के संस्कृत और पालि साहित्य का प्रभाव जापानी साहित्य पर पड़ा है क्योंकि जापान में सैकड़ों वर्ष बौद्ध धर्म के माध्यम से भारतीय साहित्य का न केवल अध्ययन–मनन किया जाता रहा है बल्कि अनुवाद भी जापानी में होते रहे हैं। प्राचीन भारतीय साहित्य के लगभग सभी महत्वपूर्ण महान ग्रंथों का जापानी में अनुवाद मिलता है। उन ग्रंथों ने जापान के मानस का निर्माण किया है‚ जापान की संस्कृति का निर्माण किया है‚ जापान के संस्कारों को एक रूप दिया है। लेकिन इन सारे परिवर्तनों के बाद भी हाइकु आज भी जापान की एक लोकप्रिय धारा के रूप में प्रवाहित है अपने उसी रूप में जिसको बाशो ने आरम्भ किया था। बाशो की ही एक बहुत ही प्रसिद्ध कविता है जापानी में—
    कारे एदा नि
    कारसु नो तोमारिकेरि
    आकि नो कुरे।
    ज़रा गिनती कीजिए। हम लोग 5–7–5 में बाँध कर हाइकु की रचना करते हैं। इसकी गिनती कीजिए। यह हाइकु के सबसे प्रसिद्ध‚ सबसे महान‚ हाइकु के विश्वविख्यात कवि ‘बाशो’ की एक बहुत प्रसिद्ध रचना है जिसके अनुवाद हिन्दी में ही नहीं‚ संसार की लगभग हर महत्वपूर्ण भाषा में हो चुके हैं। हिन्दी में अज्ञेय ने इसका अनुवाद किया है—
    सूखी डाली पर्
    काक एक एकाकी
    साँझ पतझड़ की।

    और इसकी‚ मूल कविता की जरा वर्ण–गणना कीजिए–
    का‚ रे‚ ए‚ दा‚ नि ह्य5हृ
    का‚ रा‚ सु‚ नो‚ तो‚ मा‚ रि‚ के‚ रि‚ ह्य9हृ
    आ‚ कि‚ नो‚ कु‚ रे ह्य5हृ
    ये तो 5–9–5 हो गये। तो 5–7–5 का बंधन है‚ वह तो खुद बाशो ने ही तोड़ दिया। तो इससे क्या निष्कर्ष निकलता है? वस्तु के रूप से जो कथ्य है‚ जो भाव है‚ वह अधिक महत्वपूर्ण है और अगर वह 5–7–5 के रूप में प्रस्फुटित होता है तो सोने पर सुहागा। ऐसी स्वतः प्रस्फुटित रचना‚ स्वतः निसृत शब्द–बंध‚ हृदय से निकली हुई कविता अपने आप अपना रूप आकार ले लेती है। तो हाइकु की पहली शर्त है वह हृदय से निकला होना चाहिए। वह सायास रचना नहीं होनी चाहिए। पहले से निष्कर्ष निकाल कर कि हमने 5–7–5 के अन्दर ही कुछ कहना है‚ उससे हाइकु नहीं बनेगा।
    September 19, 2012 at 4:47am · Like
    Dalvir Gill last part : एक गद्य–वाक्य को सायास 5–7–5 के तीन टुकड़ों बाँट कर यह कर देना कि देखिए मेरे अन्दर कितनी रचना–सामथ्र्य है। मैं इतनी बड़ी बात को केवल 17 अक्षरों के अन्दर बाँध कर रख सकता हूँ। मैं हाइकुकार हो गया हूँ। किसी पुरानी कहावत‚ किसी पुराने मुहावरे‚ भारतीय दर्शन के घिसे पिटे शिक्षित–अशिक्षित हर एक के मुँह पर चढ़े हुए किसी पुराने सूत्र को 5–7–5 के वर्णों में बाँध कर यह कह देना कि मैंने भारतीय दर्शन के सार को 5–7–5 के 17 अक्षरों में निचोड़ कर रख दिया है‚ वह हाइकु नहीं है।उसको आप अन्य कुछ भी कह सकते हैं। मैं इसको शब्द की साधना भी कह सकता हूँ। हमारे संस्कृत साहित्य में तो छंद–शास्त्र का इतना विविध‚ विशाल सागर है कि कविता का कोई भी रूप कहीं न कहीं उन छंदो के अन्दर कहीं न कहीं फिट हो जाता है।
    हमारे दिल्ली विश्विद्यालय के बहुत प्रसिद्ध अध्यापक विद्वान थे हिन्दी के डॉ0जगदीश कुमार। उन्होंने अथाह शोध के बाद एक किताब लिखी थी‚ ‘विश्व साहित्य की चेतना’ या कुछ ऐसा ही नाम था ‘विश्व कविता की खोज’। शायद यही नाम था। उन दिनों हाइकु की चर्चा भी बहुत थी।और उन्होंने एकदम निर्णय दे दिया कि हाइकु गायत्री मंत्र से उद्भूत है। ंमैं उन दिनों जोधपुर विश्वविद्यालय में हिन्दी का अध्यापक था। जब वह किताब मेरे हाथ में आई तब मैं दिल्ली में आ चुका था।मैंने उनको पत्र लिखा। मैंने पूछा‚ आपने यह किस आधार पर लिखा है कि हाइकु गायत्री मंत्र से उद्भूत है। मै हिन्दी का अध्यापक रहा हूँ। जापानी साहित्य का विद्यार्थी हूँ।बाद में मुझे भारत में जापानी साहित्य का पहला प्रोफेसर होने का सम्मान प्राप्त हुआ जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय जैसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय में। तो मैंने उनको बहुत विनम्र शब्दों में लिखा कि मैं यह समझ नहीं पाया हूँ कि आपने हाइकु के उद्गम को गायत्री मंत्र से कैसे निकाल लिया। बहुत रोचक उत्तर मिला मुझे। उन्होंने लिखा‚ बन्धु मैंने अपने शोध में न जाने कितने ग्रंथों का अध्ययन किया है। यह निष्कर्ष मैंने कहाँ से निकाला‚ किस आधार पर मैंने यह स्थापना की‚ आज मुझे याद नहीं है।
    इतनी बड़ी बात वे कह गये और उन्हें याद ही नहीं है। तो उन्होंने शोध क्या कीॐ ऐसी शोधें भी हमारे विद्वानों द्वारा होती हैं। तो कहने का तात्पर्य यह है कि हाइकु की पहली शर्त है कि मन के अन्दर किसी भाव को अनुभूत कर‚ किसी भावानुभूति की जो तात्कालिक प्रतिक्रिया हमारे भीतर होती है या किसी सुन्दर दृश्य को देखकर–वह एक सुंदर फूल हो सकता है‚ वह नर्मदा नदी के प्रवाह के अन्दर उठती हुई एक चपल लहर हो सकती है‚ आकाश में अचानक डूबते सूर्य की एक झलक हो सकती है–उस एक क्षण की‚ एक झलक की प्रतिक्रिया हमारे संवेदनशील मन के अन्दर होती है जो हमारी सौंदर्य–चेतना को तत्काल झकझोर देती है। मन इस अनुभूति को अभिव्यक्त करने के लिये व्याकुल हो उठता है। तब हमारे मन से जो निकलता है‚ वह हाइकु है।

    –प्रोफेसर सत्यभूषण वर्मा
    September 19, 2012 at 4:48am · Like
    Rosie Mann :
    :
    ਇੱਕ ਚੁੱਪ ਸੌ ਸੁਖ !
    September 19, 2012 at 4:51am · Unlike · 2
    Dalvir Gill nobody cared about the post, but you forgot the golden rule :

    ਇੱਕ ਚੁੱਪ ਸੌ ਸੁਖ !
    September 19, 2012 at 4:52am · Like
    Rosie Mann Dalvir , what you have posted here is very lengthy and needs time to firstly read and understand . Perhaps things like these should be shared in a different space . :))
    September 19, 2012 at 4:59am · Unlike · 2
    Dalvir Gill like a “note” you mean?
    September 19, 2012 at 5:00am · Like
    Rosie Mann Yes ‘note’ or contribute to the Documents .
    September 19, 2012 at 5:01am · Unlike · 1
    Dalvir Gill can i contribute just like that?
    September 19, 2012 at 5:02am · Like
    Rosie Mann Via the Admin perhaps .
    September 19, 2012 at 5:03am · Unlike · 1
    Dalvir Gill done !
    September 27, 2012 at 12:18am · Like · 1
    Dalvir Gill
    October 20, 2012 at 8:14am · Like

    Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s